वेलेंटाईन डे- मेरा परिवार – my family

0
170

family-gda40a43c4_640.jpg

3.5
(6)

जिसके नाम पे बचपन बिता,
शादी तक का सफर जो बिता,
सुबह से लेकर शाम तक भी,
जिसको था मेरे खुशियों का पता !
नन्हें नन्हें कदमों से चलना सिखाया,
दर्द में मेरे लिए छुपके आसूं बहाया,
उदास देख मुझे जिंदगी जाती डोल,
सकुन भरे थे मेरे माता -पिता के बोल!
दोस्त से भी बढकर थे मेरे भाई- बहन,
बडा सीधा साधा था हमारा रहन-सहन,
झगडा तो ऐसा की भारत- पाक का समर,
बीच बीच पर टकराते पर प्रीत हमारी अमर!
परिवार से बढकर क्या होता है सच्चा हमसफर,
रोते, गाते, हसते मनाते बितता है हमारा सफर,
मैं तो ऐसी हुं, ऐसा ही है मेरा प्यारा वेलेंटाईन,
चेहरे पर ना फिका पडता इसलिए मेरे शाईन !

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 3.5 / 5. Vote count: 6

No votes so far! Be the first to rate this post.

Sangita Kulkarni

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here