भाग्य विधाता : अतुल्य भारत की गाथा – Deshbhakt Bharat Poem

2
232

Add-a-subheading-1.png

4.6
(60)

भाग्य विधाता : अतुल्य भारत की गाथा – Deshbhakt Bharat Poem

काल के कपाल पे लिखी मैंने अपनी गाथा ,
मैं भारत हु , विश्व भाग्य विधाता ।

वीरोश्रवा वीर बसे है मेरे कण कण में ,
रक्त की नदिया बही है मेरे प्रण में ।

पर सदियों से यही अडिग है मेरी सत्ता ,
मैं भारत हु , विश्व भाग्य विधाता ।।

नभ के खगो में भी मेरी पहचान ,
अंत के प्रमाणों में भी मेरा प्रमाण ।

वक़्त के पहिये पे है मेरा भ्रमण ,
अतीत के चीखो में भी मेरा श्रवण ।

विविधताओं को थामे सदियों से बना दाता ,
मैं भारत हु , विश्व भाग्य विधाता ।।

रेत के ताप में खुद को तपाया है ,
तपा तपा के खुद को स्वर्ण बनाया है ।

कई स्वर्ग बसाया है मैंने अपने अंदर ,
मेरे भूतल में समाया , कई लाख समंदर ।

नव निर्माण का श्रेय भी मुझे है जाता ,
मैं भारत हु , विश्व भाग्य विधाता ।।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 4.6 / 5. Vote count: 60

No votes so far! Be the first to rate this post.

Rishabh Karn

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here